संस्कृत भाषा की ही नहीं विश्व कि अधिकांश भाषाओँ की जननी है | संस्कृत साहित्य में भारतीय संस्कृति एवं भारत के प्राचीन ज्ञान-विज्ञान की निधि भरी पड़ी है | संस्कृत भाषा के ज्ञान के बिना उससे हमारे छात्र अपरिचित रहेंगे. संस्कृत भारत की राष्ट्रीय एकता का सूत्र भी है | विद्या भारती ने इसी कारण संस्कृत भाषा के शिक्षण को अपने विद्यालय में महत्वपूर्ण स्थान दिया है | विद्या भारती संस्कृत विभाग कुरुक्षेत्र में स्थित है | इस विभाग ने सम्भाषण पद्धति के आधार पर “देववाणी संस्कृतम” नाम से पुस्तकों का प्रकाशन भी किया है | संस्कृत के आचार्यों का प्रशिक्षण कार्यक्रम भी इस विभाग के द्वारा संचालित होता है |

Copyright © 2021 Vidya Bharati Purvottar Kshetra - Developed By Vikash Sharma